रिजेक्शन के बाद कैसे बानी हेमा ड्रीम गर्ल ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Ramesh Kumar

Marketing Manager | पोस्ट किया |


रिजेक्शन के बाद कैसे बानी हेमा ड्रीम गर्ल ?


0
0





बॉलीवुड की ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी भले ही अब फिल्मों में कम नजर आती हों। लेकिन इनका रुतबा आज भी वही है जो कभी 70 और 80 के दशक में हुआ करता था। पूरा बॉलीवुड उन्हें ड्रीम गर्ल के नाम से बुलाता है | अब वह राजनीति में अपना जलवा दिखा रही है |


Letsdiskuss


आइए जानते है उनके बारें में रोचक तथ्य |

• हेमा मालिनी का जन्म 16 अक्टूबर 1948 को हुआ, यह फिल्म निर्माता (film producer) जया लक्ष्मी चक्रवर्ती की बेटी है |  


• हेमा बचपन से पढ़ाई में काफी होशियार थी, इतिहास उनका पसंदीदा विषय है। फिल्मों में अभिनय करने की वजह से हेमा अपनी 11वीं की परीक्षा भी नहीं दे पाई थी।

• चेन्नई से पढाई पूरी करने के बाद वर्ष 1961 में हेमा मालिनी को एक लघु नाटक पांडव वनवासम में बतौर नर्तकी काम करने का अवसर मिला।

• भले ही अब हेमा मालिनी सौन्दर्य और अभिनय का अनूठा हो मगर एक वक़्त था जब उनके करियर के शुरूआती दौर में तमिल निर्देशक श्रीधर ने उन्हें अपनी फिल्म में काम देने से यह कहते हुए इन्कार कर दिया कि उनमें स्टार अपील नहीं है।

• साल 1968 तक फिल्म इंडस्ट्री में जगह बनाने के लिए हेमा मालिनी ने कड़े संघर्ष किये तब जा कर उनका डेब्यू सपनो की सौदागर फिल्म से हुआ मगर बदकिस्मती से फिल्म टिकट खिडकी पर असफल साबित हुई लेकिन अभिनेत्री के रूप में हेमा मालिनी को दर्शकों ने पसंद कर लिया।

• इन्हें 11 बार फिल्मफेयर में बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड के लिए नॉमिनेट किया गया, लेकिन सिर्फ एक बार ही उन्हें अपनी फिल्म सीता और गीता के लिए बेस्ट एक्ट्रेस अवार्ड मिला।

• वर्ष 2006 में हेमा मालिनी को भारतीय संस्कृति और नृत्य में उनके योगदान और सेवा के लिए दिल्ली में भजन सोपोरी से संगीत और प्रदर्शन कला (SaMaPa) की तरफ से विटस्टा पुरस्कार मिला।

• 2012 में, सर पदमपत सिंघानिया विश्वविद्यालय (Sir Padampat Singhania University) ने भारतीय सिनेमा में उनके योगदान के लिए हेमा मालिनी को डॉक्टरेट की उपाधि दी, वही आंध्र प्रदेश सरकार से साल 2013 में एनटीआर राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया |



0
0

Picture of the author