हिमाचल प्रदेश में रहने के फायदे और नुकसान क्या हैं? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Blogger | पोस्ट किया |


हिमाचल प्रदेश में रहने के फायदे और नुकसान क्या हैं?


0
0




Media specialist | पोस्ट किया


पहाड़ों पर घूमना रहना तो सबको अच्छा लगता है लेकिन कभी किसी ने इसके फायदे और नुक्सान के बारें में नहीं सोचा है की आखिर इन जगहों पर क्या छ है और क्या नहीं, और सबसे अच्छी बात यह है की हिमाचल को सबसे अच्छी जगह मानी जाती है | तो चलिए आपको इनके बारे में कुछ बताते है |



Letsdiskuss -TravelTriangle



- हिमाचल के ऊपरी क्षेत्रों में मौसम की मार भयंकर है और बाकी जगहों के मुकाबले जीवन अत्यंत कठिन है। 


- सड़कें मैदानी राज्यों की अपेक्षा कम हैं व खस्ताहाल हैं, क्योंकि वह पहाड़ है।

- आपको जान कर हैरानी होगी की यहां बाहर की दुनिया की कम ही जानकारी होती है । लोग गांवों में बहुत ही व्यस्त रहते हैं और कई बार तो अखबार भी सब जगह तक नहीं पहुंच पाता है।
- पहड़ों पर आपको राशन लाने तक के लिये चार पांच किमी दूर जाकर बसों का इंतजार करना पड़ता है जो कई बार पूरे दिन भर में एक या दो चक्कर ही लगाती हैं। बस न आने पर तो पैदल ही आना जाना होता है। आजकल लोग गाड़ियां खरीद रहे हैं पर फिर भी बहुत लोग गाड़़ी नहीं रख सकते है ।
फायदे -

- यहाँ के प्राकृतिक नजारे अद्भुत हैं, आप कभी भी निराशा महसूस नहीं करेंगे।
- यहाँ का शांत वातावरण आपको आसानी से और कही नहीं मिलेगा |

- आपको आस पास लड़ाई झगड़ें और मार पीट जैसी बातें कम सुनने को मिलेगी |

- अपराध न्यूनतम स्तर पर हैंं।

- फिल्मों की शूटिंग अक्सर होती रहती है। थ्री इडियटस,ब्लैक,लव इन शिमला,आलू चाट और भी कई फिल्में यहां फिल्में पहाड़ों पर ही बनाई गयी है |



0
0

Blogger | पोस्ट किया


पहले नुकसान
1.हिमाचल के ऊपरी क्षेत्रों में मौसम की मार भयंकर है। जीवन अत्यंत कठिन है।

2.सड़कें मैदानी राज्यों की अपेक्षा कम हैं व खस्ताहाल हैं।
3.यहां बाहर की दुनिया की कम ही जानकारी होती है । लोग गांवों में बहुत ही व्यस्त रहते हैं। अखबार सब जगह नहीं पहुंचता। मेरे ननिहाल में तो अखबार महीने में एकाध बार ही दिखता है हालांकि अब जियो व टेलीविजन क्रांति से बड़़ा फर्क पड़ा है।
4. यहां बादल बहुत फटते हैं।हर साल कुल्लू,मंडी में बादल फटते ही फटते हैं जिससे भारी नुक्सान होता है।


0
0

Picture of the author