वरद विनायक चतुर्थी क्या है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

B.A. (Journalism & Mass Communication) | पोस्ट किया | ज्योतिष


वरद विनायक चतुर्थी क्या है ?


0
0




Content writer | पोस्ट किया


भगवान श्री गणेश को मनोकामना पूर्ण करने वाला कहा गया है। ये सभी देवों में प्रथम पूज्य हैं, यही नहीं भगवान श्री गणेश का पूजन मंगलकारी होता है। ये भक्तों को बुद्धि और विद्या प्रदान करने वाले हैं। किसी भी पूजा या शुभ काम करने से सबसे पहले गणपति जी की पूजा की जाती है | हर महीने शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को विनायकी चतुर्थी (Vinayaka Chaturthi) व्रत कहते हैं। यह चतुर्थी भगवान श्री गणेश को समर्पित है। इस दिन श्री गणेश की पूजा अर्चना की जाती है| इससे घर में सुख समृद्धि और खुशहाली आती है | परिवार के ऊपर भगवान गणेश का आशीर्वाद बन रहता है | इसमें सबसे ख़ास ध्यान रखने वाली यह होती है की विनायक चतुर्थी के लिए उपवास का दिन सूर्योदय और सूर्यास्त पर निर्भर करता है और जिस दिन मध्याह्न काल के दौरान चतुर्थी तिथि प्रबल होती है|


उस दिन विनायक चतुर्थी का व्रत किया जाता है इसलिए कभी -कभी विनायक चतुर्थी का व्रत, चतुर्थी तिथि से एक दिन पूर्व, तृतीया तिथि के दिन पड़ जाता है। उससे भी जरुरी बात यह है की विनायक चतुर्थी सभी शहरों में अलग-अलग होती है। 
Letsdiskuss
विनायक चतुर्दशी पूजा विधि | vinayak chaturdashi puja vidhi
प्रातःकाल उठकर स्नान करें और साफ कपड़े पहन लें |

उसके बाद लाल रंग का कपड़ा बिछाकर गणपति जी को स्थापित करें|
इस दिन दोपहर को मध्याह्न काल के दौरान पूजा करना सबसे ज़्यादा शुभ माना जाता है |
उसके बाद सिंदूर, रोली, अक्षत से उनको तिलक लगाएं और दूब,फूलों की माला,नारियल, गंगाजल और फल चढ़ाएं|
धूप और देसी घी का दीप जलाकर पूजा करें|
मोदक, लड्डू और फल का भोग लगाएं और गणेश जी की आरती करें|



0
0

online journalist | पोस्ट किया


श्रीगणेश की कृपा प्राप्ति से जीवन के सभी असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। इसीलिए भगवान श्रीगणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है, विघ्नहर्ता यानी आपके सभी दु:खों को हरने वाले देवता।>

> भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए विनायक/विनायकी चतुर्थी और संकष्टी गणेश चतुर्थी का व्रत किया जाता हैं। पुराणों के अनुसार शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायकी तथा कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहते हैं। कई स्थानों पर विनायक चतुर्थी को 'वरद विनायक चतुर्थी' के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन श्री गणेश की पूजा दोपहर-मध्याह्न में की जाती है।

प्रति माह शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को विनायकी चतुर्थी (Vinayaka Chaturthi) व्रत कहते हैं। यह चतुर्थी भगवान श्रीगणेश को समर्पित है। इस दिन श्रीगणेश का पूजन-अर्चन करना लाभदायी माना गया है। इस दिन गणेश की उपासना करने से घर में सुख-समृद्धि, धन-दौलत, आर्थिक संपन्नता के साथ-साथ ज्ञान एवं बुद्धि की प्राप्ति भी होती है।

 



0
0

Picture of the author