वह कौन सी घटना थी जिससे आपकी जिंदगी रातों रात बदल गई? सांझा करें? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


mudas saraziz

Blogger | पोस्ट किया |


वह कौन सी घटना थी जिससे आपकी जिंदगी रातों रात बदल गई? सांझा करें?


0
0




pravesh chuahan,BA journalism & mass comm | पोस्ट किया


वह कौन सी घटना थी जिससे आपकी जिंदगी रातों रात बदल गई? सांझा करें?

हर दिन एक नई सुबह आती है हर रात फिर दोबारा लौट कर आती है चंद्रमा अपना प्रकाश जरूर फैलाता है सूर्य अपनी रोशनी से इस जग से अंधेरा मिटाकर उजाला प्रदान करता है.
हर दिन ऐसा होता रहता है मगर जिंदगी में कई बार ऐसी घटना घट जाती है जो हमेशा यादगार बन जाती है यह घटना कोई भी हो सकती है.

जिंदगी से बहुत दुखी था हमेशा यही सोचता था कि इस मतलब और स्वार्थ से भरी दुनिया में कोई किसी का नहीं होता. कोई मरे कोई जिए कोई भूखा रहे हैं कोई दुखी रहे इन सब से किसी को भी नहीं मतलब होता है. क्योंकि सभी इंसानों को अपना अपना ही देखना होता है. मैं पंजाब से दिल्ली पढ़ने के लिए आया था पहले तो बहुत अच्छा लगता था कि दिल्ली में पढ़ने के लिए गया हूं और वहां पर जरूर अच्छा महसूस होगा मगर दिल्ली में आकर देखा कि सभी फ्रेंड्स बहुत मतलबी होते हैं इस कंपटीशन के दौर में कोई भी किसी से कम नहीं देखना चाहता है कोई भी किसी से कम नंबर नहीं लेना चाहता है मैं उसे आगे ही जाना चाहता है चाहे उसको इसके लिए सामने वाले को मन से दुखी करना पड़े मगर वह यह सब कर गुजरने में बिल्कुल भी नहीं सोचेगा इन सब बातों को सोच कर बहुत दुख होता था मन ही मन बहुत रोता था मन ही सोचा था क्या एक दूसरे से आगे निकलना है इस दुनिया का मुख्य मकसद है क्योंकि मैंने पहले कभी ऐसा नहीं देखा था पंजाब में रहने की वजह से वहां की संस्कृति में पलने की वजह से मैंने कभी भी ऐसे स्वार्थी लोगों को नहीं देखा था जो सिर्फ आगे ही रहना चाहते हैं और उसके लिए उनको कोई भी कीमत चुकानी पड़े पंजाब में वैसे तो लोग एक दूसरे की मदद करने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं और वहां पर ऐसी कोई भी परेशानी नहीं होती है जो दिल को दुखा दे.

दिल्ली के कॉलेज में पढ़ते-पढ़ते ऐसा लगता था जैसे मेरा दिमाग ही अब मेरे काम का नहीं रहा है बस इन्हीं सब बातों को सोता रहता था यही सोचता था कि आखिर ऐसा क्यों यहां के लोग इतने ज्यादा मतलबी क्यों होते हैं मात्र कुछ नंबर ज्यादा लेने के लिए वह कुछ भी कर गुजरने को उतारू रहते हैं उन दिनों में काफी ज्यादा डिप्रेशन से गुजर रहा था मन ही मन मुझे बहुत से दुख खाई जा रहे थे ऐसा लगता था जैसे मैं कहीं कूद जाऊं.

मगर जिंदगी में तब जाकर तब्दीली आती है जब कॉलेज में एक ऐसी लड़की मिलती है जो इन सभी लोगों से बहुत ही अलग होती हैं. पहले देख कर तो यह लगता था कि वह लड़की बात ही नहीं करेगी ऐसा मुझे महसूस होता था मगर शायद मैं गलत था हर इंसान एक जैसा नहीं होता. हर दिन दुखी रहने की वजह से उस लड़की से मिलता हूं और उस लड़की को अपने सभी परेशानियों को बताता हूं जैसे-जैसे मैं उसको परेशानियां बताते जाता हूं वैसे वैसे दिनों दिन मेरा तो कम होता जाता है फिर से वही एनर्जी वापस आती है जो मैंने दिल्ली में आकर खो दी थी. फिर से वह मंजिलें दिखने लगती है जो मैंने इस दिल्ली में आकर एक कोने में छिपा दी थी रोज अपनी परेशानियां उस लड़की को बताते बताते ऐसा लगता था कि मेरी परेशानियां अब रही ही नहीं.

मगर तब जाकर एक दिन पता चलता है कि वह लड़की बहुत ही ज्यादा दुखी रहती है वह लड़की सिर्फ इस वजह से मुझे अपना दुख नहीं बताती थी कि कहीं यह भी दुखी फिर से मत रहने लगे मेरा मानना है कि मेरा दुख उस लड़की के दुख के आगे कुछ भी नहीं था वह लड़की बहुत ज्यादा दुखी रहती थी सिर्फ इस वजह से मुझे दुख नहीं बताती थी ताकि इसको किसी तरह की कोई दिक्कत ना हो मगर पता नहीं कैसे मन ही मन महसूस हो रहा था कि यह जरूर किसने किसी मुश्किल में है उसके बाद बहस में आ जाता है जब वह बताती है कि मुझे मेरी परेशानी से बाहर निकालो अन्यथा मैं मर जाऊंगी.

जब मैं अपने दुखों से बाहर आया तो मैंने पहले सोच रखा था अगर इसको कभी मेरी मदद की जरूरत पड़ेगी तो मैं जरूर कुछ भी करूंगा इसकी मदद करने के लिए पूरी जी जान लगा दूंगा आखिरकार वह लड़की मुझे अपनी परेशानी बताती हैं और उसकी परेशानी ऐसी लगती है जैसे मैं उसकी परेशानी नहीं थी वह सब उसकी मर्जी के वजह से हो रहा था मगर उसके साथ रहते रहते मैं समझ चुका था कि यह लड़की कभी गलत नहीं हो सकती है.

 पूरा मामला एक घटना में तब्दील हो जाता है उस लड़की की जिंदगी में दुखों की बौछार आ जाती उसके घर वाले उसके विरोध में खड़े हो जाते हैं उसको हर कोई गलत नजर से देखने लगता है सबको यही लगता था कि इसने ही सबसे बड़ी गलती की है मगर मेरा मन इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं था मैंने फैसला किया कि मैं इसकी मदद जरूर करूंगा कुछ बातें ऐसी थी जो मुझे भी जब पता चले तो मैं भी विश्वास नहीं कर रहा था मगर जब मैंने उससे पूछा आखिर ऐसा क्यों हुआ तो सुबह मुझे इन सारी बातों को सच्चाई के साथ बताया जो कि मुझे बहुत अच्छी लगी.

समय के साथ साथ उस लड़की के दुख कम होते गए इन्हीं सब कारणों की वजह से हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब आने लगे घटना के बाद हम दोनों इतने ज्यादा  करीब आ गए कि हम दोनों को एक अच्छा दोस्त मिला एक अच्छा साथ मिला आज उस घटना की वजह से ही हम दोनों एक दूसरे के साथ हैं एक दूसरे के पास है कई बार ऐसी घटनाएं होती है जिसकी वजह से हमारी जिंदगी बदल जाती है तो इस घटना ने हम दोनों की जिंदगी बदल दी हम दोनों ने ऐसे मुश्किल स्थितियों में एक दूसरे को अच्छे से जाना मेरा मानना है कि कई घटनाएं ऐसी होती हैं जो आपकी जिंदगी को और बेहतर भी बना देती है. इस घटना ने मुझे बहुत अच्छा  दोस्त दिया अगर यह घटना नहीं घटती तो शायद मुझे कभी भी ऐसा दोस्त नहीं मिलता.
Letsdiskuss


0
0

Picture of the author