कुछ शिक्षको की अपनी छात्राओं के प्रति नियत खराब क्यों हो जाती है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


Satindra Chauhan

| पोस्ट किया |


कुछ शिक्षको की अपनी छात्राओं के प्रति नियत खराब क्यों हो जाती है?


0
0




| पोस्ट किया


मैं एक स्कूल शिक्षक हूं और मुझे 10 से 18 साल ( जोकि तूफानों, उद्वेगों से भरी कोमल अवस्था मानी जाती है) के छात्र / छात्राओं को पढ़ाने का मौक़ा और उनको जानने का अनुभव मिला है। ऐसा नहीं है कि सिर्फ शिक्षक ही छात्राओं को लुभाते हैं कुछ छात्राएं भी शिक्षक की तरफ आकर्षित होती हैं लेकिन शिक्षक को जिम्मेदार होने के नाते अपने ऊपर नियंत्रण रखना होता है।

 

एक नर होने के नाते शिक्षक क्या कोई भी इंसान विपरीत लिंग के प्रति आकर्षित हो सकते हैं लेकिन नाबालिग लड़कियों के प्रति ऐसी भावना रखना आधुनिक समाज में अपराध है लेकिन ये नेचुरल भी है यहीं हमें परिपक्वता की आवश्यकता है ।

 

इसमें सबसे बड़ा कारण शिक्षकों का दोषपूर्ण चयन है मेरे विद्यालय में 3 शिक्षक ऐसे थे जिनका इरादा केवल कमसिन किशोरियों को सेक्सुअली यूज करना था उनके लव के किस्से हुए एक दो शिक्षक पर कार्यवाही हुई जो छात्राओं को परेशान करते थे कुछ बच गए। इसलिए योग्य, चरित्रवान शिक्षक का चुनाव करना चाहिए।

 

मैं भी एक 16 वर्षीय छात्रा की तरफ आकर्षित रहा था चूंकि मुझे पता था ये एक नैसर्गिक शारीरिक आकर्षण है जोकि समाज में और मेरे व्यवसाय में स्वीकार्य नहीं है वो छात्रा बेहद सौम्य और पढ़ाई में अव्वल थी , इसलिए फेवरेट थी, मेरी आयु उस समय 29 वर्ष थी । कई छात्राएं मेरे पास रात में मैसेज भी करती थीं, किस्से शेयर करतीं चूंकि मैं एक जिम्मेदारी वाले पद पर था तो मैंने कभी भावनाओं को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और एक अच्छे , फेवरेट और चरित्रवान शिक्षक के रूप में छवि बनाई जो आज भी कायम है। और अक्सर एक विशेष शारीरिक गठन के शिक्षक अधिकतर घटिया हरकत करते हैं ऐसा मैंने नोट किया है , शिक्षक का चयन चरित्र के आधार पर उसके पिछले रिकॉर्ड को देखकर करें।

 

आज मैं अपने छात्रों के प्यार से एक सरकारी अध्यापक के रूप में चयनित होकर सेवा दे रहा हूं, जो छात्राओं पर घटिया संबंध बनाने की लालसा रखते थे वो उस नौकरी से हाथ दो बैठे और कुछ खास हासिल नही हुआ है, शायद ये कर्मों का नतीजा है। और मेरे पुराने छात्र मेरे आज भी संपर्क में हैं मैं उनको चरित्रवान बनने और राह से ना भटकने की जानकारी बेहिचक दे देता हूं।

 

वैसे समाज में शिक्षकों और छात्रों दोनों का पतन हो रहा है छात्र अध्यापक का उचित सम्मान और लिहाज नही करते इसलिए शिक्षक भी छात्रों से कोई लगाव नहीं रखते , हमें विद्यार्थियों को अच्छा नागरिक बनाने की आवश्यकता है वो देश का भविष्य हैं हमें अच्छी पीढ़ी की दरकार है । इस जवाब के माध्यम से किसी को आहत करना मेरा मकसद नहीं है मैंने जो अनुभव या अवलोकित किया वही लिखा है।

 

Letsdiskuss

Image Source - Google


0
0

Picture of the author