मीना कुमारी की शायरियों में इतना दर्द क्यों था ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

भाषा


A

Anonymous

Fitness trainer,Fitness Academy | पोस्ट किया |


मीना कुमारी की शायरियों में इतना दर्द क्यों था ?


0
0




Content writer | पोस्ट किया


मीना कुमारी उन उन अभिनेत्रियों में से एक थी जो खूबसूरत होने के साथ - साथ बेहद शांत स्वभाव और साफ़ दिल की महिला था | उनका बचपन बड़ी कठिनाइयों से गुज़रा और उन्होनें अपने बचपन में बहुत बुरे वक़्त का सामना किया |


Letsdiskusscourtesy-Samachar Nama


यहाँ तक की उनके जन्म के बाद उनके पिता ने उन्हें एक अनाथालय के बाहर छोड़ दिया था क्योंकि उनकी पहले से दो बेटियां थी और उनके घर दिन बहुत तंगी से गुज़र रहे थे, लेकिन अनाथालय से कुछ दूर जाते ही मीना कुमारी की चीखने की आवाज़ सुन कर उनके पिता का दिल पसीझ गया और वह उन्हें उठा कर घर लें गए |



आइए आज हम आपको उनके दिल से उभरें हुए शब्दों से रु बरु करवाते है -


- आगाज़ तो होता है अंजाम नहीं होता
जब मेरी कहानी में वो नाम नहीं होता


- कही - कही कोई तारा 
कही - कही कोई जुगनू
जो मेरी रात है
वो आपका सवेरा है


- तेरे क़दमों की आहट को
ये दिल ढूंढ़ता है हरदम
हर एक आवाज़ पर
थरथराहट होती जाती है


- हस - हस के हम जवान दिलों के क्यों न चुनें टुकड़ें
हर शक्श की किस्मत में इनाम नहीं होता


- मेरी तरह जो संभालें
कोई जो दर्द तो जानू
एक बार दिल से हो कर
परवरदिगार गुज़रें


- हसी थमी है इन आँखों में
यू नमी की तरह
चमक उठें है
अँधेरे भी रौशनी की तरह



0
0

Picture of the author